Hindi Kavi

Just another WordPress.com weblog

जाने के ये खबर उसे कोई….

Posted by Sandesh Dixit on September 20, 2009

.
चुभे है तीर सा,जब न मिले है जवाब उनसे
वो असल मैं है मशरूफ, या दर्द बेखबर उसे कोई?

मेरी बातो की तड़प का अंदाजा उसे नहीं शायद
मेरे लफ्जो को समझे भी, या इनकार उसे कोई ?

वो सोचे है के जिंदगी मैं गहरायी है बड़ी
मुझे न कल की खबर,जाने के ये खबर उसे कोई ?

बहुत हुई कोशिश उसके दो लफ्ज़ पाने की
अब तो शक !! के वो दिल है,या दिया पत्थर उसे कोई ?

11 Responses to “जाने के ये खबर उसे कोई….”

  1. […] PS – For hindi version of this nazm click here […]

  2. pushpa said

    yaar bahot aachi likhte ho..tum to koi kitab v publish kar sakte ho…

  3. find urdu version of this poem @ http://ashq.wordpress.com/2009/09/19/jindagi/

  4. Abhinav said

    Nicely written …Keep it bro🙂

  5. Alok said

    You Know, one thing, U said, What my heart speaks…
    Amazing …

  6. chetan said

    sahi hai biddu!!

  7. Deepak Bagga said

    क्या कहू शब्द मिलना मुश्किल है. बस यही कह सकता हूँ कि हम तो सिर्फ महसूस कर सकते हैं , पर एक आप ही है जो इसे शब्दों में बयाँ कर सकते है

  8. Prerna Jain said

    Bhaut acchi likhi hai…!!

  9. shreya said

    good i am very happy.

  10. shahi said

    haiiiiiiiiiiiiii shahi

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: