Hindi Kavi

Just another WordPress.com weblog

खग उड़ते रहना जीवन भर

Posted by Sandesh Dixit on January 17, 2009

खग! उड़ते रहना जीवन भर !
भूल गया है तू अपना पथ,
और नहीं पंखो मे गति,
किंतु लौटना पीछे पथ पर अरे, मौत से भी बदतर |
खग! उड़ते रहना जीवन भर !

मत डर प्रलय झकोरों से तू ,
बढ आशा हलकोरों से तू ,
छ्न मे यह अरि-दल मिट जाएगा तेरे पंखो से पिस कर |
खग! उड़ते रहना जीवन भर !

यदि तू लौट पड़ेगा थक कर,
अंधड़ काल बवंडर से डर,
प्यार तुझे करने वाले ही देखेंगे तुझको हँस हँस कर,
खग! उड़ते रहना जीवन भर !

और मिट गया चलते चलते,
मंजिल पथ तय करते करते,
तेरी ख़ाक चढाएगा जग उन्नत भाल और आँखों पर |
खग! उड़ते रहना जीवन भर !

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: